बातचीत कैसे करें (Communication in Dementia)

डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति आपकी बात नहीं समझ पा रहे हैं, और अपनी जरूरत भी नहीं बता पाते हैं.

देखभाल करने वाले क्या कर सकते हैं: व्यक्ति से बोलने का तरीका बदलें ताकि व्यक्ति को आपकी बात समझने में आसानी हो. व्यक्ति अपनी बात बता सकें, इसके लिए व्यक्ति की मदद कैसे करें, यह भी सीखें. डिमेंशिया के कारण व्यक्ति की सीमाओं को समझें और उसी अनुसार बात करें. बहस न करें.

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) से ग्रस्त व्यक्ति से बात कर पाना और उनकी बात समझ पाना देखभाल की बुनियाद है

ऐसी स्थिति की कल्पना कीजिये जिसमें आप यह नहीं समझ पा रहे हैं कि लोग आपसे क्या कह रहे हैं, और न ही आप उन्हें बता पा रहे हैं कि आपको क्या चाहिए. सोचिये, ऐसी समस्या हो तो जीना कितना चुनौतीपूर्ण होगा. अफ़सोस, बातचीत में इस तरह की मुश्किल डिमेंशिया से ग्रस्त लोगों के लिए एक आम समस्या है.

डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति कई बार बोलते हुए सही शब्द नहीं ढूंढ पाते. देखभाल कर्ता यह नहीं जान पाते कि क्या वे कुछ चाहते हैं, या किसी तकलीफ में हैं. क्या उन्हें भूख लगी है? कहीं दर्द है? वे क्यों परेशान है? जब देखभाल कर्ता उनसे कुछ कहते हैं, जैसे कि आपके नहाने का टाइम है, तो वे पलट कर ऐसे देखते हैं जैसे उनके पल्ले कुछ नहीं पड़ा. या वे उत्तेजित हो जाते हैं या डरे डरे से लगते हैं.

डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की बातचीत में कठिनाई उनकी उत्तेजना का एक प्रमुख कारण होता है और देखभाल करने वालों की चिंता का भी. डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति को अपनी बात बता पाना, और उनकी बात समझ पाना, यह देखभाल का एक आवश्यक अंग है. इससे व्यक्ति के साथ सम्बन्ध बना रहता है और उनकी खुशहाली बढ़ती है और वे चिंताजनक व्यवहार (उत्तेजना, उदासीनता) कम दर्शाते हैं. बातचीत में सुधार का मूल मन्त्र है यह समझ पान कि व्यक्ति बात बताने में किस तरह की तकलीफ महसूस कर रहे हैं, और अपने बात करने के तरीके को भी उसके अनुसार ढालना.

बातचीत में सुधार सिर्फ शब्दों के सही प्रयोग पर ही निर्भर नहीं है. बोलने का रवैया, चेहरे के भाव, खड़े होने का या बैठने का तरीका, आवाज़ की निर्मलता, आदि, सब बात करने का एक अंश हैं. बातचीत में सुधर के अनेक सरल तरीके हैं जिनसे व्यक्ति से बेहतर सम्बन्ध होगा और देखभाल भी अधिक कारगर होगी.

[ऊपर]

वीडियो: डिमेंशिया और बातचीत

नीचे दिए गए वीडियो में डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति से बातचीत करने के विषय पर चर्चा है. वीडियो में बताया गया है कि डिमेंशिया के कारण व्यक्ति को बात करने और समझने में किस प्रकार की दिक्कतें हो सकती हैं, और परिवार वाले कैसे अपने बोलने के ढंग को बदल सकते हैं ताकि बातचीत सफल और कारगर हो.

अगर नीचे दिया गया वीडियो प्लेयर लोड न हो, तो आप डिमेंशिया और बातचीत वीडियो यूट्यूब पर भी देख सकते हैं Opens in new window.

[ऊपर]

बातचीत के सरल और मूल उपाय

    याद रखने लायक कुछ टिप्स:

  • अपने आप को याद दिलाएं कि व्यक्ति के मस्तिष्क में कोशिकाएं नष्ट हुई हैं, और इस वजह से व्यक्ति को सचमुच समझने और बोलने में दिक्कत हो रही है
  • आसपास शोर-गुल या अन्य कारणों से व्यक्ति का ध्यान न बंटे, इसका ख्याल रखें
  • सरल शब्दों का, सरल वाक्यों का प्रयोग करें, और साथ ही इशारों से संकेत करें कि आप क्या कह रहे हैं
  • व्यक्ति को समझने और सोच कर जवाब देने के लिए समय दें
  • व्यक्ति की प्रतिक्रिया ध्यान से देखें, और उसके अनुसार अपने बोलने का तरीका बदलें
  • शांत रहें, और व्यक्ति की मदद करने के लिए तैयार रहें

व्यक्ति से बातचीत करते वक्त आपको याद रखना होगा कि व्यक्ति कई शब्दों के अर्थ भूल गए हैं और कभी कभी आपके बोलते बोलते वे यह भी भूल जाते हैं कि आपने एक मिनट पहले क्या कहा था.

आपको यह भी याद रखना होगा कि समय के साथ व्यक्ति की बातचीत करने की क्षमता कम होती जायेगी. यह भी याद रखें कि व्यक्ति की क्षमता रोज एक सी नहीं रहती है. किसी दिन लगेगा कि व्यक्ति आपकी बात समझ रहे हैं, तो किसी दिन लगेगा कि उनके पल्ले कुछ नहीं पड़ रहा. अगर व्यक्ति थके हों, परेशान हों, तो बातचीत अधिक मुश्किल हो जाती है. आपको अपने बातचीत के तरीके को निरंतर उनकी प्रतिक्रिया देखकर बदलते रहना होगा. अगर व्यक्ति मुंह मोड़ लेते हैं या परेशान या घबराया हुआ लगते हैं, तो आपको बोलने का ढंग सरल करना होगा.

आपकी कोशिश यह रहनी चाहिए कि व्यक्ति के लिए आपकी बात को समझना आसान हो. पर सरल तरह से बात करने का यह मतलब नहीं कि व्यक्ति को बच्चा समझा जाए या किसी तरह से हीन समझा जाए. बातचीत हमेशा आदर के साथ करनी चाहिए. व्यक्ति रोग से ग्रस्त हैं, इसलिए उनको दिक्कत महसूस हो रहे है, इसका लिहाज करना चाहिए, और आदर और स्नेह बनाए रखना चाहिए. आपके लहजे में एक अंश भी निरादर होगा तो वे तुरंत पहचान जायेंगे और दुःखी होंगे या गुस्सा करेंगे.

बातचीत ऐसे माहौल में करें जहाँ उनका ध्यान न बंटे और न ही उनको लगे कि उन पर हमला हो रहा है

व्यक्ति आपकी बात पर ध्यान दे सकें, इसके लिए उनका ध्यान आपकी तरफ होना चाहिए और उन्हें बेफिक्र होने चाहिये.

  • व्यक्ति आपकी बात आसानी से और स्पष्ट तरह से सुन सके, इसके लिए:
    • यदि व्यक्ति सही सुनने के लिए यंत्र (hearing aid) इस्तेमाल करते हैं तो चेक करें कि यन्त्र ठीक काम कर रहा हैं.
    • आसपास के शोर को बंद करवा दें. टीवी या रेडियो बंद कर दें. अगर पास में कोई जोर से बोल रहा है, या प्लेटों या बर्तन की आवाज़ आ रही है, तो उसे बंद कर दें.
  • सामने से, व्यक्ति की तरफ देख कर बात करें. पीछे से बोलेंगे तो व्यक्ति घबरा सकते हैं या सोच सकता है कि उन पर हमला हो रहा है.
  • अगर व्यक्ति घबराए हुए लगें, या आपको ऐसे देखें जैसे वे आपको नहीं जानता, तो अपना छोटा सा परिचय दे दें ताकि व्यक्ति को याद आ जाए कि वे कहाँ है और आप कौन हैं.
  • आँख में आँख डाल कर बात करें, और यदि जरूरी हो तो इसके लिए झुक जाएँ, या व्यक्ति के स्तर पर व्यक्ति के सामने बैठ जाएँ, ताकि व्यक्ति आपको बिना सर ऊपर करे देख सकें.
  • शांत रहें.

सरल तरह से बात करें

डिमेंशिया से ग्रस्त अधिकांश व्यक्ति कठिन शब्द नहीं समझ पाते, और लंबे-चौड़े वाक्य भी नहीं समझ पाते. जो अभी अभी सुना है, वे याद नहीं रख पाते. उन्हें बात समझने में वक्त लगता है.

  • सरल शब्दों का इस्तेमाल करें. छोटे वाक्यों का इस्तेमाल करें.
  • धीरे बोलें
  • व्यक्ति को आपकी बात समझने के लिए समय दें, और यदि जरूरी हो, तो अपनी बात दोहराएँ.
  • अगर व्यक्ति चकराए हुए लगें तो
    • अपनी बात के कठिन शब्दों की जगह सरल शब्दों का इस्तेमाल कर अपने वाक्य को दोहराएँ.
    • इशारों का इस्तेमाल करें, वस्तुओं की ओर संकेत करें
    • रुकें, और व्यक्ति को कुछ समय दें
    • व्यक्ति से पूछें कि उन्हें क्या चाहिए

कोई काम कैसे करना है, उसको आसान तरीके से बताएं

जब आप डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति से कुछ काम करने के लिए कहते हैं, तो वह व्यक्ति के लिए मुश्किल पेश कर सकता है, क्योंकि जो आपके लिए एक छोटा काम है, उसमें कई कदम हैं और व्यक्ति इन सब को याद नहीं रख पाते. जब आप व्यक्ति से कुछ करने को कह रहे हों, तो ध्यान रखें:

  • एक समय पर एक ही कदम करने को बोलें
  • साफ साफ बोलें कि व्यक्ति को क्या करना है
  • व्यक्ति को यह न बताएं कि उन्हें क्या नहीं करना है. डिमेंशिया से ग्रस्त कई व्यक्तियों को क्या करना है और क्या नहीं करना है, इन दोनों में अंतर नहीं पता होता है. आप कहें, “यह रूमाल मत उठाइए” तो कई व्यक्ति सोचेंगे कि आप कह रहे हैं “यह रूमाल उठाइए”.
  • कोई काम क्यों जरूरी है, इसके लंबे चौड़े तरह से समझाने से व्यक्ति को ज्यादा दिक्कत होगी. जो काम करना है, वह याद रखना ही कठिन है. काम क्यों करना है, उसका फायदा क्या है, यह सब समझना व्यक्ति के लिए एक और बोझ हो जाता है और उन पर और जोर डालता है.
  • जब काम का एक कदम हो जाए, तो उसको सराहें और व्यक्ति को प्रोत्साहित करें

सिर्फ सीधे साधे और जरूरी सवाल करें

कोई भी सवाल व्यक्ति के लिए तनाव पैदा कर सकता है क्योंकि व्यक्ति शायद सवाल न समझ पाएँ या यह न सोच पाएँ कि जवाब क्या दें. अगर आप कुछ पूछें और आपको लगे कि व्यक्ति परेशान लग रहे हैं, तो यह आजमाएं:

  • सवाल को सरल करें, और सिर्फ दो या तीन सरल विकल्प में से चुनने को बोलें
  • ऐसे सवाल न करें जिनका आप उत्तर नहीं चाहते
  • जिस बात में व्यक्ति के चुनने की कोई जरूरत ही नहीं, उसके लिए सवाल न करें
  • व्यक्ति को जवाब देने के लिए समय दें, और जरूरी समझें तो सवाल को, भाषा सरल करके दोहराएँ, या इशारों से वस्तुएं दिखा कर व्यक्ति की चुनने में मदद करें.

सिर्फ शब्दों पर ही निर्भर न हों, बात बताने/ समझाने के दूसरे तरीके भी अपनाएँ

कई बार डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति शब्द नहीं समझ पाते. इसलिए बोलने के साथ साथ अन्य तरीकों से भी अपनी बात बताएं, जैसे कि:

  • इशारे करें, वस्तु की तरफ उँगली से संकेत करें, या जो काम आप करवाना चाहते हैं, उसका प्रदर्शन करें (दाँत ब्रश करवाना हो तो अपनी उँगली से ब्रश करके दिखाएँ कि आप क्या कह रहे हैं).
  • व्यक्ति को वस्तु छूने या सूंघने दें.

अपने चेहरे के हाव-भाव को सहज और सुखद बनाए रखें

अधिकांश प्रकार के डिमेंशिया में व्यक्ति आपका मूड पहचान पाते हैं. वे यह जान पाते हैं कि आप गुस्से में हैं या चिड़चिड़ाए हुए. अगर उन्हें लगे कि आप गुस्से में हैं या उनका मजाक उड़ा रहे हैं, तो वे उत्तेजित हो जायेंगे. ऐसे में वे आपकी बात नहीं समझ पायेंगे, उल्टा कुछ और ही कर देंगे या गुस्सा करने लगेंगे. परन्तु अगर आप शांत और सहज रहें तो वे भी शांत रहेंगे. उनके साथ सरलता से, आदर के साथ पेश आएँ, तो वे आपकी बात ज्यादा अच्छी तरह समझ पायेंगे. कुछ टिप्स:

  • शांत और सुखद भावना बनाए रखें.
  • आदर और स्नेह से बात करें
  • व्यक्ति कुछ गलत कर रहे हों तो भी शांत रहते हुए, कोमलता से, पर दृढ़ता से उन्हें रोकें
  • कुछ खतरनाक काम से रोकना हो तो चौंक कर न बोलें. ऐसे न बोलें: “अरे, यह क्या कर रहे हैं!!” या “आप तो खुद को चोट लगा लेंगे!!” या “देख नहीं रहे चूल्हा गरम है! हाथ जल जाएगा, पता नहीं क्या!!”. आप चाहते हैं कि व्यक्ति रुक जाए, तो आप गुस्सा करने में या कारण समझाने में समय बर्बाद न करें. बस बिना चौंके, सरल, साधारण शब्दों का दृढ़ता से इस्तेमाल करें, जैसे कि “रुकिए” और “नहीं”
  • जोर से या जल्दी में न बोलें क्योंकि व्यक्ति सोचेंगे कि आप उन पर गुस्सा कर रहे हैं, और स्वाभाविक है कि यह उन्हें पसंद नहीं आएगा.
  • डांटें नहीं.
  • शांत भाव और मंद मुस्कान बनाए रखें. हसें नहीं, क्योंकि शायद व्यक्ति समझें कि आप उन पर हंस रहे हैं. व्यक्ति आपके जिस हाव-भाव से सबसे ज्यादा सहज रहते हों अपने को वैसे ही बनाए रखें.
  • उचित समझें, और व्यक्ति यह पसंद करते हों, तो हलके स्पर्श का इस्तेमाल करने. कुछ व्यक्ति स्पर्श पसंद करते हैं, और उससे उन्हें अपनापन महसूस होता है. पर अन्य व्यक्ति स्पर्श पसंद नहीं करते, और ऐसे लोगों को ज़बरदस्ती न छुएं, और अगर किसी काम में मदद करने के लिए छूना जरूरी हो तो उन्हें पहले बता दें कि आप उन्हें क्यों छूने वाले हैं.
  • किसी भी काम के लिए व्यक्ति को पकड़ना हो तो इतने जोर से न पकड़ें कि व्यक्ति को लगे आप आक्रामक हो रहे हैं. व्यक्ति के कंधे को पकड़ कर झिंझोड़ें नहीं, न ही व्यक्ति को ज़बरदस्ती खींचें. आदर बनाए रखे.

कुछ प्रकार के डिमेंशिया में व्यक्ति शायद चेहरे के भाव इतनी अच्छी तरह न पहचान पाएँ. या शायद उनके व्यवहार से लगे कि उन्हें और लोगों की भावनाओं की कोई कद्र नहीं है, जैसे कि अगर कोई रो रहा है तो वे हँसने लगते हैं, या विरक्त लगते हैं. परन्तु ऐसे में भी उनको औरों की भावनाओं का कुछ एहसास होता है, हालांकि वे अपने व्यवहार में इसे व्यक्त नहीं कर पाते. जो भी है, बात करते समय यदि देखभाल करने वाले शांत और संतुलित रहें और अपने ऊपर नियंत्रण रखें तो बातचीत का माहौल ज्यादा सुखद और कारगर रहता है.

व्यक्ति आपको बता पाएँ कि उनको क्या चाहिए, इसमें उसकी मदद करें

व्यक्ति कुछ आपको बताना चाहें और न बता पाएँ, यह उनके लिए बहुत निराशा की बात होती है.

  • अगर आपको लगे व्यक्ति सही शब्द नहीं ढूँढ पा रहे,
    • अगर आपको लगे कि आप जानते हैं, तो मदद के लिए, शांति और नम्रता से, सही शब्द सुझाएँ
    • व्यक्ति से कहें कि वे वस्तु की ओर संकेत करें
    • शांत होकर व्यक्ति के बोलने का इंतजार करें
  • कभी कभी व्यक्ति कुछ बोलते वक्त बीच वाक्य रुक जाते हैं, जैसे के वे यही भूल गए हैं कि वे कुछ कह रहे थे. अगर व्यक्ति अशांत न लग रहे हो, तो बस इंतजार करें. बेसब्री न दिखाएँ, न ही जिद्द करें कि व्यक्ति अपनी बात पूरी करे.
  • व्यक्ति से गलती हो, तो सोचें कि क्या इस गलती से किसी का कुछ नुकसान हो रहा है. कई देखभाल करने वाले गलती को पकड़ कर पीछे पड़ जाते हैं, और कोशिश करते हैं कि व्यक्ति गलती समझ कर दुबारा वही बात सही तरीके से कहे या करे. वे सोचते हैं कि व्यक्ति तो जानना चाहिए कि ठीक क्या है, और गलत क्या है. पर व्यक्तियों को ऐसे ठीक करना या उनसे बहस करना अकसर उल्टा पड़ जाता है, क्योंकि व्यक्ति सही बात समझ नहीं पाते या भूल जाते हैं, और उत्तेजित भी हो जाते है कि उनमें गलती निकाली जा रही है. यदि डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति कोई गलती करें, तो हमें यह याद रखना चाहिए कि उन्हें पहली ही हर काम में काफी दिक्कत हो रही है. कुछ गलतियाँ ठीक करने का कोई फायदा नहीं, जैसे कि:
    • व्याकरण में गलती हो
    • व्यक्ति को कोई बीती हुई बात गलत याद हो.
    • व्यक्ति किसी वस्तु को गलत नाम से पुकारे.
    • अगर व्यक्ति किसी गलत नाम का इस्तेमाल करे तो आप सही नाम धीरे से सुझा सकते हैं, पर जोर देकर, गलती ठीक करने के लहजे से नहीं. व्यक्ति सही शब्द ही इस्तेमाल करे, इस बात पर जोर न दें, न ही गलती पर फटकारें या बहस करें. आपका सिर्फ यह प्रयत्न रहे कि आप उनकी बात समझ पाएँ.

व्यक्ति कोई प्रश्न बार बार दोहराएं या कुछ बार बार मांगें और उत्तेजित लगें. इस तरह के बदले व्यवहार के कारण समझने के लिए और उन्हें संभालने के लिए इस वेबसाइट पर दूसरे पृष्ठों पर विस्तृत चर्चा है; लिंक नीचे “इन्हें भी देखें” सेक्शन में हैं.

अगर हम यह सोचें कि डिमेंशिया का व्यक्ति पर क्या असर होता है, तब यह स्पष्ट होगा कि ऊपर दी गयी टिप्स क्यों काम करती हैं. परन्तु देखभाल करते समय, परिवार वाले व्यक्ति को बात समझाने में या कुछ काम कराने में इतने व्यस्त हो जाते हैं कि वे यह भूल जाते हैं कि डिमेंशिया का व्यवहार पर क्या असर होता है.

व्यक्ति की बात समझने के लिए उनके बोलने पर कम निर्भर हों, और उनके अन्य संकेतों को समझें जैसे जैसे डिमेंशिया का मूल रोग बिगड़ता है, व्यक्ति बोलना कम कर देते हैं, या ठीक से बोल नहीं पाते. अगर उनके दाँत में दर्द है, तो शायद वे कहेंगे कि आँख में दर्द है. आपको उनकी बात समझने के लिए सभी संकेत देखने होंगे–वे किसकी ओर इशारा कर रहे हैं, शरीर के किस भाग को छूने पर वे मुंह बनाते हैं या कराहते हैं, वे किस तरफ झुक रहे हैं, वगैरह. अग्रिम अवस्था तक पहुंचते पहुंचते व्यक्ति बोलना बहुत कम कर देते हैं, या बंद कर देते हैं, और उनके शारीरिक संकेत समझना और भी जरूरी हो जाता है.

कुछ एक्स्ट्रा उदाहरण हमारे अंग्रेज़ी के पृष्ठ पर मौजूद हैं (लिंक नीचे “इन्हें भी देखें” सेक्शन में है)

[ऊपर]

व्यक्ति के साथ बातचीत का आनंद उठाना

देखभाल का काम संभालते संभालते थके हुए परिवार वाले यह नहीं सोच पाते कि यदि वे कुछ देर डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति के साथ बैठ कर आराम करें, तो व्यक्ति को और उन्हें, दोनों को अच्छा लग सकता है.

डिमेंशिया के कारण व्यक्ति को अपने आस-पास होती हुई बातें को समझने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है. उन्हें बोलने में और अपने काम करने में दिक्कत होती रहती है, और दिक्कत क्यों हो रही है, इसके बारे में चिंता भी होती है. यह सब उन पर बहुत दबाव डालता है.

आप यदि अपनी थकान और चिंताएं भूल कर कुछ पल निश्चिन्तता के साथ उनके पास बैठें तो वे और आप, दोनों कुछ देर तनाव से दूर हो सकते हैं. शायद ऐसे मौके पर वे भी अपने आप को हल्का महसूस करें और इधर उधर की बातें करने लगें. सही हों या गलत, इस तरह की बातों का अपना ही कुछ अपना ही मजा है, और आप अपनी चिंताओं को परे रख छोड़, इस बहाव में आ कर उनकी संगत का आनंद उठा सकेंगे. यह साथ बिताए हुए पल आपके और व्यक्ति के बीच एक सहजता और स्नेह का माहौल पैदा कर सकते हैं और दिन के बाकी टाइम, जब आप व्यक्ति की काम में मदद कर रहे हैं, या बात करने की कोशिश कर रहे हैं, तब इन पलों की वजह से बने सम्बन्ध आपके बीच ताल-मेल बिठाने में मददगार साबित होंगे.

यदि व्यक्ति को फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया (Frontotemporal Dementia, FTD) है, जिसमें व्यक्ति उदासीन हों और अलग-अलग रहें, तो यह न सोचें कि व्यक्ति किसी के बारे में कोई भावना नहीं रखते; वे भी कुछ तरह से औरों के लिए भावनाएं रखते हैं. इनके लिए भी सुखद गतिविधियां संभव हैं जिनसे नाता भी बने, और व्यक्ति सक्रिय भी रहें.

[ऊपर]

इन्हें भी देखें….

हिंदी पृष्ठ, इसी साईट से:

इस विषय पर हिंदी सामग्री, कुछ अन्य साईट पर: यह याद रखें कि इन में से कई लेख अन्य देश में रहने वालों के लिए बनाए गए गईं, और इनमें कई सेवाओं और सपोर्ट संबंधी बातें, कानूनी बातें, इत्यादि, भारत में लागू नहीं होंगी.

इस पृष्ठ का नवीनतम अँग्रेज़ी संस्करण यहाँ उपलब्ध है: CommunicationOpens in new window . अंग्रेज़ी पृष्ठ पर आपको विषय पर अधिक सामयिक जानकारी मिल सकती है. कई उपयोगी अँग्रेज़ी लेखों, संस्थाओं और फ़ोरम इत्यादि के लिंक भी हो सकते हैं. कुछ खास उन्नत और प्रासंगिक विषयों पर विस्तृत चर्चा भी हो सकती है. अन्य विडियो, लेखों और ब्लॉग के लिंक, और उपयोगी पुस्तकों के नाम भी हो सकते हैं.इस अंग्रेज़ी पृष्ठ पर बातचीत के अनेक उदाहरण भी हैं, जो ऊपर वाले विषयों और सुझावों को स्पष्ट रूप से समझाते हैं. फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया और बातचीत के संदर्भ में कुछ लिंक भी हैं.

[ऊपर]

Previous: देखभाल के लिए ज़रूरी तरीके (Caregiving Essential Toolkit) Next: दैनिक कार्यों में व्यक्ति की सहायता (Helping Dementia Patients with Activities of Daily Living)

%d bloggers like this: