डिमेंशिया और बातचीत: समस्याएँ और सुझाव (Dementia and Communication: Problems faced, tips for family caregivers)

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) से ग्रस्त व्यक्ति से बातचीत करने में अकसर परिवार वालों को मुश्किल होती है. लगता है कि व्यक्ति बात समझ नहीं पा रहे, और अपनी पसंद/ नापसंद और ज़रूरतें बता भी नहीं पा रहे. पर ठीक से बातचीत कर पाना तो सही देखभाल के लिए एक बुनियादी ज़रूरत है. बात समझ पायेंगे और समझा पायेंगे, तभी तो परिवार वाले डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की मदद कर पायेंगे. डिमेंशिया के कारण व्यक्ति को बातचीत में कई प्रकार की दिक्कतें महसूस होती हैं. अगर परिवार वाले अपने बोलने का ढंग बदलें तो यह दिक्कतें कम हो सकती हैं और बातचीत सफल हो, इसकी संभावना बढ़ सकती है.

इस वीडियो में व्यक्ति को कैसी-कैसी दिक्कतें होती हैं, इसपर चर्चा है. बातचीत के तरीके कैसे बदलें, इसके लिए परिवार वालों के लिए कई सुझाव भी हैं. वीडियो में चर्चा के लिए चित्रों का उपयोग करा गया है, और यह वीडियो हिंदी और अँग्रेज़ी में उपलब्ध है.

हिंदी में देखें. (यदि वीडियो प्लेयर नीचे लोड न हो रहा हो तो आप इस हिंदी वीडियो को सीधे यूट्यूब पर भी देख सकते हैं)

हिंदी ट्रांसक्रिप्ट (PDF फाइल) यहाँ डाउनलोड करें.

अँग्रेज़ी में देखें. (यदि वीडियो प्लेयर नीचे लोड न हो रहा हो तो आप इस अँग्रेज़ी वीडियो को सीधे यूट्यूब पर भी देख सकते हैं)

अँग्रेज़ी ट्रांसक्रिप्ट (PDF फाइल) यहाँ डाउनलोड करें.

This presentation is released under a “Creative Commons Attribution-NonCommercial-ShareAlike 3.0 Unported License” license. This means you can use it for non-commercial purposes so long as you include the copyright line “(c)2011, Swapna Kishore”. If you create derivative works, they should also be made available under a similar license. For clarifications on the license or uses outside the scope of the license, contact us.

Previous: डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर में फ़र्क क्या है (What is the Difference between Dementia and Alzheimer’s?) Next: डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की दैनिक कार्यों में सहायता: एक उदाहरण (Helping with Activities of Daily Living, an example)

%d bloggers like this: