डिमेंशिया में भटकने और खोने की समस्या (Dementia and wandering)

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) से ग्रस्त व्यक्ति के भटकने और खोने की संभावना ऊँची होती है, और ऐसे हादसों से पूरा परिवार घबरा जाता है. कुछ भटके हुए व्यक्ति कई दिन तक नहीं मिलते, कई मिलते भी हैं को गहरी चोट खाए हुए. या कोई दुर्घटना हो जाती है, और व्यक्ति मर भी सकते हैं. कभी कभी व्यक्ति ऐसे खोते हैं कि मिलते ही नहीं. इस वीडियो में भटकने की समस्या पर चर्चा है. व्यक्ति की क्या ज़रूरतें हो सकती हैं जिनके कारण वे भटकते हैं और बेचैन होते हैं, और परिवार वाले क्या कर सकते हैं, इस पर वीडियो में सुझाव हैं. भटकने के लिए तैयार कैसे रहें, और व्यक्ति भटक भी जाएँ तो उन्हें कैसे जल्द से जल्द सही सलामत लाएं, इसके लिए भी सुझाव हैं.

वीडियो में सुझाव समझाने के लिए चित्रों का उपयोग करा गया है, और वीडियो हिंदी और अँग्रेज़ी में उपलब्ध है.

हिंदी में देखें. (यदि वीडियो प्लेयर नीचे लोड न हो रहा हो तो आप इस हिंदी वीडियो को सीधे यूट्यूब पर भी देख सकते हैं Opens in new window)

हिंदी ट्रांसक्रिप्ट (PDF फाइल) यहाँ डाउनलोड करें Opens in new window.

अँग्रेज़ी में देखें. (यदि वीडियो प्लेयर नीचे लोड न हो रहा हो तो आप इस अँग्रेज़ी वीडियो को सीधे यूट्यूब पर भी देख सकते हैं Opens in new window)

अँग्रेज़ी ट्रांसक्रिप्ट (PDF फाइल) यहाँ डाउनलोड करें Opens in new window.

This presentation is released under a “Creative Commons Attribution-NonCommercial-ShareAlike 3.0 Unported License” license. This means you can use it for non-commercial purposes so long as you include the copyright line “(c)2011, Swapna Kishore”. If you create derivative works, they should also be made available under a similar license. For clarifications on the license or uses outside the scope of the license, contact us.

Previous: डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की दैनिक कार्यों में सहायता: एक उदाहरण (Helping with Activities of Daily Living, an example) Next: Page moved to drat and redirection added as page too tough to maintain: पूरी सूची (Full list)

%d bloggers like this: