फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया (Frontotemporal Dementia, FTD): एक परिचय

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया (मनोभ्रंश) एक प्रमुख प्रकार का डिमेंशिया है। यह अन्य प्रकार के डिमेंशिया से कई महत्त्वपूर्ण बातों में फर्क है और इसलिए अकसर पहचाना नहीं जाता। देखभाल में भी ज्यादा कठिनाइयाँ होती हैं। इस पृष्ठ पर उपलब्ध सेक्शन:

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया क्या है (What is Frontotemporal Dementia) (FTD)।

  • फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया (Fronto-Temporal Dementia, FTD) चार प्रमुख प्रकार के डिमेंशिया (मनोभ्रंश) में से एक है*1
    • इस डिमेंशिया में हुई मस्तिष्क की हानि को दवाई से पलटा नहीं जा सकता। यह इर्रिवर्सिबल (irreversible) है। व्यक्ति का मस्तिष्क फिर से सामान्य नहीं हो सकता।
    • मस्तिष्क की हानि समय के साथ बढ़ती जाती है। यह एक प्रगतिशील डिमेंशिया (प्रगामी डिमेंशिया, progressive dementia)माना जाता है।
    • अंतिम चरण में फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया वाले व्यक्ति सब कामों के लिए दूसरों पर निर्भर हो जाते हैं।
  • यह डिमेंशिया अन्य प्रकार के डिमेंशिया से कई महत्त्वपूर्ण बातों में फर्क है।
  • सभी डिमेंशिया में मस्तिष्क में किसी भाग में क्षति होती है, जिस के कारण लक्षण पैदा होते हैं। फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया में यह क्षति मस्तिष्क के दो खंडों में होती है। ये हैं:
    • ललाटखंड (अग्र खंड, फ्रंटल लोब, frontal lobe), और
    • शंख खंड (कर्णपट खंड, टेम्पोरल लोब, temporal lobe)।
  • प्रभावित खंडों में कुछ असामान्य प्रोटीन इकट्ठा होने लगते हैं, कोशिकाएं मरने लगती हैं, जरूरी रसायन ठीक से नहीं बन पाते, और लोब सिकुड़ने लगते हैं।
  • इस हानि के कारण व्यक्ति को उन लोब के काम से संबंधित लक्षण होने लगते हैं।

FTD brain lobes
[ऊपर]

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया के लक्षण (Symptoms of Frontotemporal Dementia)।

  • शुरू के आम लक्षण हैं व्यक्तित्व और व्यवहार में बदलाव, और भाषा संबंधी समस्याएँ। याददाश्त अकसर ठीक रहती है।
    • व्यक्ति में कौन से लक्षण होंगे यह इस पर निर्भर है कि फ्रंटल और टेम्पोरल लोब में कहाँ-कहाँ और कितनी क्षति हुई है।
  • व्यक्तित्व/ व्यवहार संबंधित लक्षणों के उदाहरण:
    • व्यक्ति का मेल-जोल कम हो जाना, व्यक्ति का अपने में ही सिमट जाना।
    • दूसरों की भावनाओं की परवाह न करना, सहानुभूति न दिखा पाना।
    • परेशान/ बेचैन रहना, व्यवहार या बात दोहराना, चीजें छुपाना, शक्की होना, उत्तेजित होना, चिल्लाना, आक्रामक होना (दूसरों को मारना)।
    • रात में अधिक विचलित होना और सो न पाना।
    • कुछ तरह की चीजों को खाने की खास इच्छा, जैसे कि मिठाई या तली हुई चीजें।
    • अनुचित , अशिष्ट, अश्लील व्यवहार, समाज में ऐसा व्यवहार करना जो खराब समझा जाता है।
    • ध्यान न लगा पाना, निर्णय लेने में दिक्कत, पैसे का मूल्य समझने में दिक्कत, सोच-विचार न कर पाना।
  • भाषा संबंधित लक्षणों के उदाहरण:
    • सामान्य, रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाले शब्दों का अर्थ पूछना, सही शब्द न सूझना और शब्द इस्तेमाल करने के बजाय उस का वर्णन करना।
    • परिचित लोगों या वस्तुओं को पहचानने में दिक्कत।
    • शब्द समझ पाना पर वाक्य न समझ पाना, खास तौर से लंबे, उलझे हुए वाक्य।
    • धीरे-धीरे, झिझक कर बोलना, शब्द उच्चारण में दिक्कत और गलतियाँ, हकलाना, वाक्यों में से छोटे शब्दों को छोड़ देना या व्याकरण में गलती होना।
  • FTD अन्य रोगों के साथ भी पाया जा सकता है।  व्यक्ति को ऐसे अन्य  विकार हो सकते हैं जिन से चलने में दिक्कतें भी होने लगती है। गति धीमी हो सकती है, संतुलन में दिक्कत हो सकती है, निगलने में भी दिक्कत होने लगती है, और पार्किन्सन जैसे कुछ लक्षण हो सकते हैं।

[ऊपर]

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया वर्ग में शामिल रोग (Various Medical conditions of Frontotemporal dementia)।

  • फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया किसी एक विशिष्ट रोग का नाम नहीं है। इस में अनेक रोग शामिल हैं जो मस्तिष्क के फ्रंटल और टेम्पोरल लोब की हानि से संबंधित हैं।
    • इन रोगों में से सबसे पहले पिक रोग (Pick’s Disease) की पहचान हुई थी। कई लोग अब भी फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया को पिक रोग के नाम से ही बुलाते हैं।  इस के अन्य भी कई नाम हैं (नीचे नोट्स देखें)।
    • अब भी इस पर नई जानकारी प्राप्त हो रही है, और फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया के नए प्रकार पहचाने जा रहे हैं।
    • इस श्रेणी के रोगों का वर्गीकरण विशेषज्ञ अलग-अलग तरह से करते हैं।

मोटे तौर पर, फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया के प्रकार हैं:

  • व्यवहार-संबंधी रूप (Behavioural variant Fronto-Temporal Dementia, BvFTD)
    • इस में व्यक्तित्व या व्यवहार में बदलाव नज़र आते हैं। उदाहरण: व्यक्ति मिलना जुलना बंद कर सकते हैं, अपने आप में सिमट सकते हैं। या औरों के प्रति निरादर या लापरवाही दिखा सकते हैं। अनुचित व्यवहार कर सकते हैं, आक्रामक हो सकते हैं, या उन्माद दिखा सकते हैं।
  • भाषा संबंधी रूप (Language variants of frontotemporal dementia), इस में शामिल हैं:
    • अर्थ -संबंधी डिमेंशिया (सिमैंटिक डिमेंशिया , semantic dementia): बोल सकते हैं, पर शब्द का अर्थ नहीं समझते,बोलते हुए अजीब अजीब शब्दों का प्रयोग करते हैं—उनकी बात का अर्थ नहीं निकलता।
    • प्रगतिशील गैर-धाराप्रवाह वाचाघात (progressive non-fluent aphasia): बोलने में दिक्कत होती है, और वे धीरे धीरे और बहुत कठिनाई से बोलते हैं।
  • अन्य रूप, खास रूप, मिश्रित रूप।
    • FTD अन्य रोगों के साथ भी हो सकता है। कुछ विशेषज्ञों के अनुसार करीब 10 से 20% FTD केस में साथ साथ मोटर न्यूरान संबंधित हानि भी होती है (overlapping motor disorders), जिस से संतुलन में और हिलने/ डुलने/ चलने में समस्या होती है, और पार्किंसन किस्म के लक्षण भी हो सकते हैं।
    • कुछ उदाहरण: मोटर न्यूरान रोग (motor neurone disease), प्रगतिशील सुप्रान्यूक्लियर अंगघात (progressive supranuclear palsy), कोर्टिको-बैसल अपह्रास (corticobasal degeneration)।

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया : कुछ महत्वपूर्ण तथ्य (Some important facts about Fronto Temporal Dementia)।

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया होने की संभावना के संबंध में अब तक उपलब्ध जानकारी:

age profile of FTD
genetics image
  • आयु। हालांकि यह सभी उम्र के लोगों में पाया जा सकता है , पर इसके अधिकांश केस कम उम्र के लोगों में देखे जाते हैं (40 से  65 आयु वर्ग में)
    • ध्यान दें, अल्ज़ाइमर रोग की संभावना उम्र के साथ बढ़ती है और अल्ज़ाइमर के अधिकांश केस 65 और उस से अधिक  आयु वर्ग में होते हैं।
    • 65 से कम आयु के लोगों में देखे जाने वाले डिमेंशिया केस में यह एक महत्व-पूर्ण डिमेंशिया है।
  • रिस्क फैक्टर (risk factor):  फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया के कारक स्पष्ट रूप से मालूम नहीं । यह माना जाता है कि यह आनुवांशिकी, स्वास्थ्य-समस्या संबंधी, और जीवन-शैली संबंधी कारणों का मिश्रण हैं।
    • अभी तक सिर्फ एक रिस्क फैक्टर पहचाना गया है: फैमिली हिस्ट्री (family history)–माँ-बाप, भाई-बहन, अन्य पीढ़ियों में अन्य करीबी रिश्तेदार को फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया या अन्य ऐसे किसी रोग का होना (fronto-temporal dementia or other neuro-degenerative diseases)।
    • इस डिमेंशिया की यह आनुवांशिकी अन्य मुख्य डिमेंशिया के प्रकारों के मुकाबले ज्यादा है। National Institute of Aging (USA) की FTD की विषय-पत्रिका के अनुसार करीब 15 से 40 % केस में कोई आनुवांशिकी (जेनेटिक, हेरिडिटरी, genetic)) कारण पहचाना जा सकता है।

अवधि

  • फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया एक प्रगतिशील प्रकार का डिमेंशिया है और समय के साथ व्यक्ति की हालत बिगड़ती जाती है। अंतिम चरण में व्यक्ति पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर होने लगते हैं।
  • इस की अवधि हर व्यक्ति में फर्क है, पर आम तौर पर माना जाता है कि शुरू से अंतिम चरण तक 2 से 10 साल लग सकते हैं। औसतन लोग लक्षणों के आरम्भ के बाद करीब 8 साल जीवित रहते हैं।

[ऊपर]

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया रोग-निदान और उपचार (Frontotemporal Dementia Diagnosis and Treatment)।

रोग-निदान: फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया अनेक कारणों से कई बार पहचाना नहीं जाता।

  • प्रारंभिक लक्षण भूलने की बीमारी से नहीं मिलते, इसलिए परिवार और डॉक्टर उन  लक्षणों पर ध्यान नहीं देते। परिवार वाले डॉक्टर से सलाह करने के बारे में नहीं सोचते।
  • अगर 65 से कम उम्र के व्यक्ति में लक्षण होते हैं, तो लोग डिमेंशिया के बारे में नहीं सोचते। बदले व्यवहार को लोग बदले चरित्र की निशानी या तनाव (स्ट्रेस, stress) का नतीजा समझते हैं।
  • डॉक्टर और विशेषज्ञों को भी फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया का कम अनुभव होता है।
  • इन सब कारणों से सही निदान मिलने में देर हो सकती है।

उपचार

medicine pill
  • अभी तक फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया से हो रही हानि को वापस ठीक करने के लिए कोई दवा नहीं है। हानि की प्रगति को रोकने या धीरे करने के लिए भी कोई दवा नहीं है।
  • डॉक्टर की कोशिश रहती है कि व्यक्ति को लक्षणों से कुछ राहत दें।
    • व्यवहार-संबंधी लक्षण चिंताजनक हों तो डॉक्टर ऐसी दवाएं देने की कोशिश करते हैं जिन से व्यवहार में कुछ सुधार हो पाए।
    • बोलने में दिक्कत हो तो स्पीच थेरपी से कुछ केस में कुछ आराम मिल सकता है।
    • पार्किंसन किस्म के लक्षण हों तो डॉक्टर शायद कुछ पार्किसन की दवा भी दें।
    • व्यायाम (एक्सर्साइज) से, और शारीरिक और व्यावसायिक उपचार से भी कुछ आराम हो सकता है (physical and occupational therapy)।

देखभाल में पेश खास कठिनाइयाँ (Special challenges faced in caregiving)।

अन्य डिमेंशिया के मुकाबले फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया में देखभाल में चुनौतियाँ अधिक हैं, और देखभाल ज्यादा मुश्किल और तनावपूर्ण होती है।

  • निदान के समय व्यक्ति अकसर कमाने वाली उम्र में होते हैं, और उनकी ज़िम्मेदारियाँ ज्यादा होती हैं। बचत राशि अकसर कम होती है। देखभाल करने वाले भी नौकरी नहीं कर पाते। पैसे की मुश्किल आम है। बच्चों की उम्र भी कम होती है, और उनकी पढ़ाई वगैरह की जिम्मेदारी और खर्च ज्यादा होते हैं।
  • इस डिमेंशिया में अकसर व्यवहार संभालना ज्यादा मुश्किल रहता है।
  • जवान व्यक्ति के आक्रामक व्यवहार को संभालना ज्यादा कठिन है।
  • अनुचित व्यवहार के कारण समाज में और रिश्तेदारी में समस्या। इस के बारे में जानकारी इतनी कम है कि आस-पास के लोग रोग-निदान पर यकीन नहीं करते और व्यक्ति के चरित्र को खराब समझते हैं।
  • देखभाल सेवाएँ और रहने के लिए केयर होम बहुत ही कम हैं। लगभग सभी उपलब्ध सेवाएं और रहने के लिए केयर होम वृद्धों के लिए हैं। ये जवान, ताकतवर रोगियों के लिए उपयुक्त नहीं हैं।

[ऊपर]

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया: मुख्य बिंदु (Salient Points about Frontotemporal Dementia)।

  • फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया एक प्रमुख प्रकार का डिमेंशिया है जो अन्य डिमेंशिया के प्रकार से कुछ मुख्य बातों में बहुत फर्क है। इस वजह से इस का सही रोग-निदान बहुत देर से होता है।
    • इस के अधिकांश केस 65 से कम उम्र के लोगों में होते हैं।
    • इस के प्रारंभिक लक्षण हैं व्यक्तित्व और व्यवहार में बदलाव और भाषा संबंधी समस्याएँ।
    • शुरू में याददाश्त संबंधी लक्षण नहीं होते।
  • यह प्रगतिशील और ला-इलाज है। अभी इस को रोकने या धीमे करने के लिए कोई दवाई नहीं है।
    • इलाज और देखभाल में दवा से, व्यायाम से, शारीरिक और व्यावसायिक थेरपी से और स्पीच थेरपी से व्यक्ति को कुछ राहत देने की कोशिश करी जाती है।
  • इस डिमेंशिया का अब तक मालूम रिस्क फैक्टर (कारक) सिर्फ फैमिली हिस्ट्री है , यानी कि परिवार में अन्य लोगों को यह या ऐसा कोई रोग होना।
  • इस डिमेंशिया में देखभाल कई कारणों से बहुत मुश्किल होती है, जैसे कि:
    • पैसे की दिक्कत, बदला व्यवहार संभालना ज्यादा मुश्किल, समाज में बदले व्यवहार के कारण दिक्कत, बाद में व्यक्ति की शारीरिक कमजोरी के संभालने में दिक्कत।
    • उपयुक्त सेवाएँ बहुत ही कम हैं, और स्वास्थ्य कर्मियों में भी जानकारी बहुत ही कम।
  • फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया पर विशिष्ट संस्थाएं और ऑनलाइन सपोर्ट कम है। अधिकांश उपलब्ध जानकारी और सपोर्ट अल्ज़ाइमर रोग के लिए तैयार करी गयी है, परन्तु फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया अल्ज़ाइमर रोग से कई महत्त्वपूर्ण बातों में फर्क है और इस लिए कई पहलू हैं जिन पर आम संसाधनों से उपयोगी जानकारी नहीं मिल पाती। यदि आप को या आपके किसी प्रियजन को FTD हो तो जानकारी और सपोर्ट के लिए विशिष्ट FTD संसाधन का भी इस्तेमाल करें।

[ऊपर]


(नोट्स: अधिक जानकारी के लिए लिंक, और चित्रों के लिए श्रेय)।
*1अन्य प्रमुख डिमेंशिया और उन पर प्रकाशित पोस्ट भी देखें। अल्ज़ाइमर रोग (Alzheimer’s Disease, AD) (सबसे आम डिमेंशिया रोग), संवहनी डिमेंशिया (वैस्कुलर डिमेंशिया, Vascular dementia), और लुई बॉडी डिमेंशिया (Lewy Body Dementia)

अन्य सम्रबंधित लेख देखें।

फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया और संबंधित विकारों के लिए कुछ शब्द/ वर्तनी देखें।

  • फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया, फ्रंटल लोबर डिमेंशिया, फ्रंटोटेम्पोरल लोबर डीजेनेरेशन, फ्रंटो-टेम्पोरल डीजेनेरेशन, फ़्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया, , पिक रोग, मोटर न्यूरान रोग, व्यवहार-संबंधी फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया, भाषा संबंधी फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया, अर्थ -संबंधी डिमेंशिया, सिमैंटिक डिमेंशिया, प्रगतिशील गैर-धाराप्रवाह वाचाघात, मोटर न्यूरान रोग, प्रगतिशील सुप्रान्यूक्लियर अंगघात, कोर्टिको-बैसल अपह्रास।
  • Frontotemporal dementia, Frontotemporal degeneration, Frontal lobe degeneration, FTD, Pick’s Disease, Behavioural variant Fronto-Temporal Dementia, BvFTD, Language variants of frontotemporal dementia, semantic dementia), progressive non-fluent aphasia, motor neurone disease, progressive supranuclear palsy, corticobasal degeneration.
चित्र का श्रेय: (Public domain pictures) मस्तिष्क का चित्र: Henry Vandyke Carter [Public domain], via Wikimedia Commons.

[ऊपर]

ब्लॉग एंट्री शेयर करने के लिए नीचे दिए बटन का इस्तेमाल करें. धन्यवाद!

डिमेंशिया किन रोगों के कारण होता है (Diseases that cause dementia)

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) के लक्षण अनेक रोगों के कारण पैदा हो सकते हैं. कुछ लोग इन डिमेंशिया के कारणों (causes of dementia) को डिमेंशिया के प्रकार या डिमेंशिया के किस्म भी कहते हैं (types of dementia), या कभी कभी विशेष रोग के नाम की जगह, “डिमेंशिया” शब्द को रोग के नाम की तरह इस्तेमाल करते हैं. वास्तव में ऐसे अनेक रोग हैं जिनसे डिमेंशिया के लक्षण पैदा हो सकते हैं (लगभग 100). प्रमुख रोग हैं अल्ज़ाइमर (Alzheimer’s Disease), संवहनी मनोभ्रंश (नाड़ी-संबंधी डिमेंशिया, vascular dementia), फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया (fronto-temporal dementia, FTD), लुई बॉडी डिमेंशिया (Lewy Body dementia, LBD), मिश्रित डिमेंशिया (mixed dementia), इत्यादि.

अकसर लोग पूछते हैं कि डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर में फ़र्क क्या है. अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिससे मस्तिष्क में हानि होती है, और डिमेंशिया के लक्षण होते हैं. यह डिमेंशिया का सबसे आम कारण है, पर डिमेंशिया अन्य रोगों के कारण भी हो सकता है. डिमेंशिया लक्षणों के समूह का नाम है, और अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिससे ये लक्षण हो सकते हैं.

  • डिमेंशिया और उसके लक्षण पैदा करने वाले रोगों के बारे में कुछ प्रमुख तथ्य.
  • डिमेंशिया के ठीक हो सकने वाले कारण (reversible causes)
  • डिमेंशिया के ठीक न हो सकने वाले कारण (irreversible causes)
  • इन्हें भी देखें

पूरे पोस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें : डिमेंशिया किन रोगों के कारण होता है (Diseases that cause dementia)

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) के लक्षण अनेक रोगों के कारण पैदा हो सकते हैं. कुछ लोग इन डिमेंशिया के कारणों (causes of dementia) को डिमेंशिया के प्रकार या डिमेंशिया के किस्म भी कहते हैं (types of dementia), या कभी कभी विशेष रोग के नाम की जगह, “डिमेंशिया” शब्द को रोग के नाम की तरह इस्तेमाल करते हैं. वास्तव में ऐसे अनेक रोग हैं जिनसे डिमेंशिया के लक्षण पैदा हो सकते हैं (लगभग 100). प्रमुख रोग हैं अल्ज़ाइमर (Alzheimer’s Disease), संवहनी मनोभ्रंश (नाड़ी-संबंधी डिमेंशिया, vascular dementia), फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया (fronto-temporal dementia, FTD), लुई बॉडी डिमेंशिया (Lewy Body dementia, LBD), मिश्रित डिमेंशिया (mixed dementia), इत्यादि.

अकसर लोग पूछते हैं कि डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर में फ़र्क क्या है. अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिससे मस्तिष्क में हानि होती है, और डिमेंशिया के लक्षण होते हैं. यह डिमेंशिया का सबसे आम कारण है, पर डिमेंशिया अन्य रोगों के कारण भी हो सकता है. डिमेंशिया लक्षणों के समूह का नाम है, और अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिससे ये लक्षण हो सकते हैं.

इस पृष्ठ के सेक्शन:

डिमेंशिया और उसके लक्षण पैदा करने वाले रोगों के बारे में कुछ प्रमुख तथ्य

  • व्यक्ति में डिमेंशिया के लक्षण एक या एक से ज्यादा रोगों के कारण पैदा हो सकते हैं
  • डिमेंशिया एक संलक्षण (लक्षणों के समूह) का नाम है. हर मरीज में सब लक्षण नहीं होंगे; किसी व्यक्ति में कुछ लक्षण नज़र आ सकते हैं, तो किसी अन्य व्यक्ति में कोई और लक्षण नज़र आ सकते हैं. यह तो डॉक्टर ही बता पायेंगे कि व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं
  • व्यक्ति में डिमेंशिया के कौन से लक्षण प्रकट होते हैं यह इस पर निर्भर है कि रोग के कारण मस्तिष्क के किस भाग में हानि हुई है
  • व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं, यह तय करने के लिए डॉक्टर प्रश्न पूछेंगे और उचित जांच और टेस्ट करेंगे, और फिर बताएँगे कि व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं. जांच के दौरान वे तय करेंगे कि व्यक्ति के लक्षण किस रोग के कारण हैं.
  • कुछ रोग इलाज से ठीक हो सकते हैं, और इस इलाज के बाद व्यक्ति स्वस्थ हो जाता है और उसके डिमेंशिया लक्षण पूरी तरह से चले जाते हैं. इसे रिवर्सिबल डिमेंशिया (reversible dementia) कहते हैं.
  • बाकी रोग (जिनके कारण डिमेंशिया होता है) लाइलाज हैं. इन्हें इर्रिवर्सबिल डिमेंशिया (irreversible dementia) कहते हैं. इलाज से इनमे से कुछ रोगों के प्रकट लक्षण तो काम हो सकते हैं, पर रोग मूल रूप से ठीक नहीं हो पाता. मस्तिष्क में जो हानि हो चुकी है, वह दवाई से वापस पलटती नहीं है, और दवाई का फोकस होता है प्रकट लक्षणों को कम करना और कुछ राहत देना. डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्तियों को आराम पंहुचाने के लिए अधिक कारगर दवाईओं के लिए शोध ज़ारी है.
  • डिमेंशिया के लक्षण किस गति से बढ़ेंगे और कौन से लक्षण ज्यादा गंभीर होंगे, यह इस पर निर्भर है कि उस व्यक्ति का डिमेंशिया किस रोग के कारण है. मस्तिष्क के किस भाग में कितनी हानि हुई है, और हानि किस रफ़्तार से बढ़ रही है, लक्षण इस पर निर्भर होते हैं. कई प्रकार के डिमेंशिया में मस्तिष्क में हो रही हानि बढ़ती जाती है progressive dementia), पर कुछ डिमेंशिया में हानि एक ही स्तर पर काफी अरसे तक रुकी रहती है, फिर शायद कुछ और हानि हो, और फिर कुछ देर उसी नए स्तर पर रुकी रहे. (इसको plateau.या step-wise progression of dementia भी कहते हैं)
  • परिवार वाले इस बात को ले कर भी चिंतित होते हैं कि क्या डिमेंशिया अनुवांशिक है. उनके डिमेंशिया की संभावना के बारे में जानने के लिये यह जानना ज़रूरी है कि डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति को किस रोग के कारण डिमेंशिया है. फिर परिवार वाले उचित शोध की रिपोर्ट देख सकते हैं.
  • अधिकाँश डिमेंशिया और देखभाल सम्बंधित चर्चा ऐसे डिमेंशिया के प्रकारों के इर्द-गिर्द होती है जिन में इलाज से रोग को पलटा नहीं जा सकता (irreversible). चर्चा करने वाले यह मान कर चलते हैं कि डिमेंशिया के लक्षण दिखाने वाले व्यक्ति की सही डॉक्टरी जांच हो चुकी है, और यदि डिमेंशिया पैदा करने वाला रोग इलाज से ठीक हो सकता था, तो इलाज हो चुका है.

[ऊपर]

डिमेंशिया के ठीक हो सकने वाले कारण (reversible causes)

डिमेंशिया के ठीक हो सकने वाले कारणों में शामिल हैं अवसाद (depression), थाइरोइड हार्मोन में कमी (hypothyroidism), कुछ प्रकार के संक्रमण (infections), और विटामिन B12 की कमी (vitamin B12 deficiency). जांच से सही कारण पता चलाने के बाद डॉक्टर इलाज कर सकते हैं और व्यक्ति के डिमेंशिया लक्षण चले जायेंगे.

क्योंकि डिमेंशिया के लक्षण कभी कभी ऐसे रोगों के कारण पैदा होते है जिनका इलाज संभव है, इसलिए उचित यह है कि यदि कोई डिमेंशिया के लक्षण महसूस कर रहा है तो सही जांच कराई जाए. नाउम्मीद होकर घर बैठे रहने से उस व्यक्ति को, और अन्य परिवार वालों को, नाहक परेशान होती रहेंगे जब कि डॉक्टर के पास रोग का इलाज है.

इस प्रकार के डिमेंशिया के कुछ कारक रोग ऐसे हैं जो कम पाए जाते हैं, और जिनका रोग निदान कई बार ठीक से नहीं हो पाता. ऐसा एक रोग है सामान्य दबाव हायड्रोसेफ़ेलस(normal pressure hydrocephalus, NPH), जिस में मस्तिष्क में अधिक फ्लूइड भर जाता है और इस कारण लक्षण पैदा होते है. पर शंट लगाकर इस फ्लूइड को निकाला जा सकता है, जिस से व्यक्ति को लक्षणों से राहत मिल सकती है. कुछ ऐसे भी रोग हैं जिन में लगता है कि इनका तो मस्तिष्क से कोई सम्बन्ध ही नहीं है, पर फिर भी इन रोगों से डिमेंशिया लक्षण पैदा हो सकते हैं. जैसे कि, कुछ रिसर्च में पाया गया है कि सीलिएक रोग (उदार संबंधी रोग, celiac disease) से भी डिमेंशिया लक्षण हो सकते हैं. एक अन्य उदाहरण है लाइम रोग (Lyme’s disease).

Reversible dementia पर अधिक विस्तृत चर्चा के लिए हमारे अँग्रेज़ी पृष्ठ को देखें (लिंक नीचे “इन्हें भी देखें सेक्शन में है)

[ऊपर]

डिमेंशिया के ठीक न हो सकने वाले कारण (irreversible causes)

अधिकाँश डिमेंशिया लाइलाज हैं, यानि कि दवाई से रोग से हुई हानि ठीक नहीं करी जा सकती.अधिकांश रोग प्रगतिशील (progressive) भी होते हैं, और अपकर्षक (degenerative) भी, और समय के साथ मस्तिष्क अधिक नष्ट होता जाता है, और व्यक्ति अधिक लाचार होते जाते हैं.

अल्ज़ाइमर (Alzheimer’s Disease) डिमेंशिया का सबसे आम कारण है. यह अभी लाइलाज है, और इस पर जोर-शोर से शोध चल रहा है. इसमें दिमाग की कोशिकाएं (cells) सिकुड जाती हैं या नष्ट हो जाती हैं, और “प्लाक” के जमा होने के कारण कोशिकाओं के बीच के जोड़ भी नष्ट हो जाते हैं. (यदि हिंदी में इस पर जानकारी ढूढ़ रहे हैं तो ध्यान रखें कि Alzheimer एक जर्मनी के डॉक्टर का नाम था, और देवनागरी लिपि में इसे अनेक तरह से लिखा जाता है, और इससे गूगल खोज के रिजल्ट में फ़र्क पड़ सकता है. उदाहरण: अल्ज़ाइमर, अल्जाइमर, अल्ज़ाईमर, एल्ज़ाइमर्ज़, एलसायमर, एल्सायमर, एलसायमरस, एल्जायमर्स, इत्यादि)

संवहनी डिमेंशिया एक अन्य मुख्य कारण है, खासकर भारत में. इसमें मस्तिष्क की हानि स्ट्रोक, मिनी-स्ट्रोक (TIA), और अन्य नाड़ी-सम्बंधी समस्याओं की वजह से होती है. उक्त रक्तचाप (high blood pressure) और धमनियों का स्थूल होना अकसर इन सब नाड़ी-संबंधी डिमेंशिया का मूल कारण होते हैं.

अन्य डिमेंशिया के कारण हैं फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया (fronto-temporal dementia), लुई बॉडी डिमेंशिया (Lewy Body dementia) और पार्किंसंस रोग (Parkinson’s Disease). यह भी हो सकता है कि डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्तियों में डिमेंशिया के लक्षण एक से अधिक रोगों के कारण पैदा होते हैं, जिसे मिक्स्ड डिमेंशिया (मिश्रित डिमेंशिया, mixed dementia) कहा जाता है. अकसर मिक्स्ड डिमेंशिया वाले व्यक्ति को अल्ज़ाइमर और संवहनी डिमेंशिया होता है, पर अन्य डिमेंशिया के प्रकारों के सम्मिश्रण भी संभव हैं.

अक्सर डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर शब्दों को पर्यायवाची शब्दों की तरह से इस्तेमाल करा जाता है, पर यह गलत है. अल्ज़ाइमर रोग डिमेंशिया के लक्षणों का सबसे आम कारण ज़रूर है (50 – 75%), पर हम अन्य कारणों को नज़रंदाज़ नहीं कर सकते–वे 25 – 50% केस में पाए जाते हैं, जो एक काफी बड़ा हिस्सा है.

इन चार प्रमुख प्रकार के डिमेंशिया पर हिंदी में अधिक जानकारी के लिए नीचे इन्हें भी देखें सेक्शन को देखें)

अगर हम यह जानें कि हमारे प्रियजन को कौन सा डिमेंशिया है, तो उस प्रकार के डिमेंशिया के बारे में पढ कर हम अंदाजा लगा सकते हैं कि रोग के कौन से लक्षण किस अवस्था में ज्यादा प्रमुख होंगे, और हम उसके अनुसार खुद को देखभाल के लिए तैयार कर सकते हैं.

उदाहरण के लिए, लक्षणों को ही लें. अल्ज़ाइमर के रोगिओं में जयादातर याददाश्त संबंधी समस्याएँ पहले नज़र आते हैं, पर फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया वाले लोगों में अकसर व्यवहार का बदलाव एक प्रमुख लक्षण होता है, और याददाश्त संबंधी समस्याएं कम नज़र आती हैं. रोग की प्रगति भी अलग अलग होती है. अल्ज़ाइमर में ज्यादातर प्रगति धीमी रहती है. पर संवहनी डिमेंशिया में, जिसमे मस्तिष्क की हानि नाड़ीयों की समस्याओं के कारण होती है, अगर यह समस्याएँ रोकी जा सकें तो रोगी का डिमेंशिया एक ही स्तर पर कई दिनों तक रह सकता है. फिर अगर व्यक्ति को यदि स्ट्रोक हो जाए तो डिमेंशिया के लक्षण रातों-रात बदतर हो सकते हैं. पर यह भी याद रखें कि निश्चित ढंग से नहीं कहा जा सकता कि किसी एक व्यक्ति में रोग किस गति से और कैसे बिगडेगा.

एक पहलू यह है कि रोग कोई भी हो, व्यक्ति के लक्षण उसी व्यापक लक्षणों के समूह से होते हैं जिन्हें डिमेंशिया कहते हैं. इसलिए परिवार वाले अपने प्रियजन की देखभाल के लिए टिप्स अनेक स्तोत्र से पा सकते हैं. अधिकांश जानकारी देखभाल की जानकारी अल्ज़ाइमर के नाम से मिलती है क्योंकि अधिकाँश रोगी अल्ज़ाइमर से ग्रस्त हैं, और विश्व-भर में शोध और चर्चा भी अल्ज़ाइमर पर ही केंद्रित है. राष्ट्रिय संस्थाएं सभी प्रकार के डिमेंशिया का समर्थन भी अल्ज़ाइमर की छत्री के अंतर्गत करती हैं. इन्टरनेट पर डिमेंशिया सम्बंधी जानकारी ढूंढते हुए यह बात याद रखने से जानकारी ढूँढने में आसानी होगी.

पर यह न समझें कि अल्ज़ाइमर के लिए दी गयी सभी सलाह दूसरे प्रकार के डिमेंशिया में ज्यूं-के-त्यूं काम आ सकती है. व्यक्ति में कौन से लक्षण अधिक पेश है, और रोग किस तरह से बिगड रहा है, उसे न भूलें. भिन्न डिमेंशिया रोगों के लिए उपचार और सलाह भी अलग हो सकती है. अच्छा होगा है कि ऐसे साधन भी ढूँढें जो डिमेंशिया पैदा करने वाले उस रोग से सम्बंधित है जिससे व्यक्ति ग्रस्त है, ताकि अधिक कारगर टिप्स मिलें.

एक अन्य ज़रूरी बात यह है कि इलाज करने वाले सभी डॉक्टर को मालूम रहना चाहिए कि डिमेंशिया किस रोग के कारण है, क्योंकि कुछ दवाइयाँ ऐसी हैं जो एक तरह के डिमेंशिया के लिए उपयुक्त हैं, पर दूसरे डिमेंशिया में नुकसान कर सकती हैं और रोगी की हालत और खराब हो सकती है. (उदाहरण देखें कैसे लुई बॉडी डिमेंशिया में अल्ज़ाइमर में दी गयी कुछ दवाइयाँ नुकसान कर सकती हैं; नीचे दिए गए लिंक में इस पर अधिक जानकारी है. उचित सपोर्ट ग्रुप में भी इस प्रकार की जानकारी मिल सकती है)

नोट: जैसे जैसे डिमेंशिया पैदा करने वाले रोगों के बारे में जानकारी बढ़ती है, वैसे वैसे विशेषज्ञ उन रोगों के नाम और उनकी श्रेणियों को बदलते रहते हैं. ये साधारण लोगों को कंफ्यूस कर सकता है, और जानकारी खोजने में दिक्कत पैदा कर सकता है. इस पर कुछ अधिक टिपण्णी देखें हमारे अँग्रेज़ी पृष्ठ पर (लिंक नीचे “इन्हें भी देखें सेक्शन में है).

[ऊपर]

इन्हें भी देखें….

चार प्रमुख प्रकार के डिमेंशिया के मुख्य बिंदु यहाँ देखें और विस्तृत पोस्ट (चित्रों सहित) यहाँ देखें:

मुख्य रोगों के अंग्रेज़ी नाम, देवनागरी में:

इस पृष्ठ पर कई बीमारियों के अंग्रेज़ी नाम हैं. इनको देवनागरी में लिखते समय अलग अलग संगठन हिंदी और अंग्रेज़ी में अलग अलग तरह से पेश करते हैं; कुछ प्रचलित स्पेलिंग (वर्तनी) आपकी सुविधा के लिए (गूगल खोज में सहायता के लिए):

  • Dementia: डिमेंशिया, मनोभ्रंश, डिमेन्शिया, डिमेंशिया डिमेंश्या, डिमेंटिया, डेमेंटिया
  • Alzheimer’s Disease: अल्जाइमर, अल्ज़ाइमर, अलजाइमर, अलज़ाइमर, एलसायमरस, अलज़ाईमर, एल्ज़ाइमर्ज़
  • Lewy Body dementia: लुई बाड़िज़, लुई बॉडी रोग, लुई बॉडी़ज़ वाला रोग,लुई बाड़ी रोग, लेवी बॉडीज़
  • Vascular dementia: (इसके लिए और इस से संबंधित विकारों के लिए कुछ शब्द) वास्कुलर डिमेंशिया, वैस्क्यूलर डिमेंशिया, नाड़ी-संबंधी डिमेंशिया, संवहनी मनोभ्रंश, हृदवाहिनी रोग, रक्त-वाहिका रोग,स्ट्रोक, सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया, मल्टी-इनफार्ट, मिनी-स्ट्रोक्स, बहु-रोधगलितांश डिमेंशिया, बिंसवान्गर (सबकोर्टिकल वैस्क्यूलर डिमेंशिया), ट्रांसिऐंट इस्कीमिक अटैक्स, अस्थायी स्थानिक अरक्तता दौरे
  • Fronto-temporal dementia: फ्रोंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया, फ्रंटोटेम्पोरल लोबार डिजेनरेशन, पिक्स रोग, फ़्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया
  • Mixed dementia:मिश्रित डिमेंशिया, मिक्स्ड डिमेंशिया
  • Parkinson’s Disease: पार्किन्सन-रोग, पार्किंसंस रोग

पृष्ठ पर इस (अँग्रेज़ी) रिपोर्ट का ज़िक्र है: डिमेंशिया इंडिया रिपोर्ट 2010 (The Dementia India Report 2010) (PDF file) Opens in new window

डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर में फ़र्क क्या है, इस पर एक छोटा हिंदी वीडियो देखें, जिसमे सरल तरीके से, रेखा चित्र का इस्तेमाल करके डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर के बीच का सम्बन्ध समझाया गया है.(यदि वीडियो प्लेयर नीचे लोड न हो रहा हो तो आप इस वीडियो को सीधे यूट्यूब पर भी देख सकते हैं Opens in new window)

हिंदी पृष्ठ, इसी साईट से:

डिमेंशिया रोगों के बारे में और जानकारी: निदान, उपचार, बचाव .

इस विषय पर हिंदी सामग्री, कुछ अन्य साईट पर: यह याद रखें कि इन में से कई लेख अन्य देश में रहने वालों के लिए बनाए गए हैं, और इन में कई सेवाओं और सपोर्ट संबंधी बातें, कानूनी बातें, इत्यादि, भारत में लागू नहीं होंगी.

इस पृष्ठ का नवीनतम अँग्रेज़ी संस्करण यहाँ उपलब्ध है: Diseases that cause dementia Opens in new window. अंग्रेज़ी पृष्ठ पर आपको विषय पर अधिक सामयिक जानकारी मिल सकती है. कई उपयोगी अँग्रेज़ी लेखों, संस्थाओं और फ़ोरम इत्यादि के लिंक भी हो सकते हैं. कुछ खास उन्नत और प्रासंगिक विषयों पर विस्तृत चर्चा भी हो सकती है. अन्य विडियो, लेखों और ब्लॉग के लिंक, और उपयोगी पुस्तकों के नाम भी हो सकते हैं. इस पृष्ठ पर अनेक उपयोगी वेबसाइट के लिंक भी हैं, जो अलग अलग तरह के डिमेंशिया पर जानकारी देते हैं, और डिमेंशिया वाले व्यक्ति और उनके परिवारों को सपोर्ट भी करते हैं.

[ऊपर]

Previous: डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is dementia?) Next: डिमेंशिया के प्रकारों पर अधिक जानकारी