संवहनी डिमेंशिया (वैस्कुलर डिमेंशिया, Vascular dementia): एक परिचय

संवहनी डिमेंशिया ((वैस्कुलर डिमेंशिया, वैस्कुलर मनोभ्रंश, vascular dementia) डिमेंशिया के चार प्रमुख प्रकारों में से एक है. यह डिमेंशिया के करीब 20 – 30% डिमेंशिया केस के लिए जिम्मेदार है. इस के बारे में जानने से आप इसे ज्यादा आसानी से पहचान पायेंगे, और इस से बचने के लिए अपनी जिंदगी में उचित बदलाव अपना पायेंगे. इस पृष्ठ पर:

संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is Vascular Dementia)

संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) एक प्रमुख प्रकार का डिमेंशिया है*1

  • इस डिमेंशिया में मस्तिष्क में हुई हानि को दवा से वापस ठीक नहीं किया जा सकता (इर्रिवर्सिबल, irreversible)
  • Dementia India Report 2010 के अनुसार इर्रिवार्सिब्ल डिमेंशिया के केस में से व्यक्ति को 20-30% संवहनी डिमेंशिया (वैस्क्युलर डिमेंशिया, vascular dementia) होता हैं
Table 1.1 from Dementia India Report 2010
brain vascular system
  • अंग्रेज़ी शब्द वैस्कुलर (और हिंदी शब्द ‘संवहनी’) का अर्थ है: रक्त वाहिकाओं (खून की नलिकाएं, blood vessels) से संबंधित
  • रक्त वाहिकाओं के द्वारा शरीर के हर भाग में आक्सीजन और जरूरी पदार्थ पहुंचाए जाते हैं
  • हमारे मस्तिष्क में भी रक्त वाहिकाओं का एक नेटवर्क होता है (वैस्क्युलर सिस्टम)
    • मस्तिष्क के ठीक काम करने के लिए मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं का ठीक रहना बहुत ज़रूरी
  • संवहनी डिमेंशिया में मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं में समस्या होती है, और इसकी वजह से डिमेंशिया लक्षण पैदा होते हैं
    • मस्तिष्क के कुछ भागों में खून की सप्लाई (blood supply) में रुकावट हो जाती है
    • खून ठीक न पहुँचने के कारण उन भागों में कोशिकाएं (सेल, cells) मर जाती हैं
    • इस के कारण वे भाग ठीक काम नहीं कर पाते, और डिमेंशिया के लक्षण पैदा होते हैं
  • संवहनी डिमेंशिया के मुख्य प्रकार हैं:
    • स्ट्रोक से संबंधित डिमेंशिया (Stroke-related dementia)
    • सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया (Subcortical vascular dementia)

[ऊपर]

स्ट्रोक से संबंधित डिमेंशिया (Stroke-related Dementia)

  • स्ट्रोक (पक्षाघात) में मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कुछ भागों में कुछ देर के लिए नहीं हो पाता
    • यह रक्त वाहिका में बाधा से हो सकता है, जैसे कि रक्त का थक्का (clot) वाहिका को बंद कर दे
    • यह वाहिका के फटने से भी हो सकता है
  • कई लोग स्ट्रोक के बाद ठीक हो पाते हैं
  • पर कुछ लोगों में स्ट्रोक से हुई मस्तिष्क की हानि पूरी तरह ठीक नहीं होती, जिस से डिमेंशिया के लक्षण नज़र आ सकते हैं
  • अल्ज़ाइमर सोसाइटी UK की “What is vascular dementia?” पत्रिका के अनुसार
    • लगभग 20% स्ट्रोक केस में छह महीनों में डिमेंशिया के लक्षण नज़र आ सकते हैं
    • एक बार स्ट्रोक हो, तो आगे भी स्ट्रोक की संभावना बढ़ जाती है, और इस वजह से डिमेंशिया का खतरा भी बढ़ जाता है
खून की सप्लाई में कमी के कुछ कारण
block in blood vesselburst blood vessel

बार-बार मिनी स्ट्रोक से भी हानि

  • कुछ लोगों को बहुत छोटे-छोटे स्ट्रोक (मिनी-स्ट्रोक, mini-stroke) हो सकते हैं जिन का असर 24 घंटे या कम में चला जाता है
    • अकसर लोग ऐसे मिनी-स्ट्रोक पहचान नहीं पाते, या उन्हें गंभीर नहीं समझते
    • पर कभी-कभी इन से मस्तिष्क में हानि हो सकती है
    • ऐसे कई मिनी-स्ट्रोक के बाद कुल मिला कर हुई हानि इतनी हो सकती है कि डिमेंशिया के लक्षण नज़र आने लगते हैं
  • मिनी-स्ट्रोक और उस में पाए डिमेंशिया से संबंधित कुछ शब्द:
    • मिनी-स्ट्रोक: ट्रांसिऐंट इस्कीमिक अटैक्स (transient ischemic attack, TIA) या अस्थायी स्थानिक अरक्तता
    • मस्तिष्क में हुई हानि: इनफार्क्ट (रोधगलितांश, infarct)
    • बार-बार के मिनी-स्ट्रोक से संबंधित डिमेंशिया: मल्टी- इनफार्क्ट डिमेंशिया (multi-infarct dementia), बहु-रोधगलितांश डिमेंशिया

[ऊपर]

सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया (Subcortical Vascular Dementia)

  • मस्तिष्क में कई छोटी वाहिकाएं हैं जो गहरे भागों (श्वेत पदार्थ) में खून पहुंचाती हैं
  • इन में भी हानि हो सकती है, जैसे कि इनका सिकुड़ जाना, अकड़ जाना, इत्यादि। ऐसे में इन में खून का बहाव ठीक नहीं रहता
    • ऐसे नुकसान के कारक रोगों में उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, और मधुमेह शामिल हैं
  • मस्तिष्क के गहरे भागों की छोटी वाहिकाओं में हानि के कारण उत्पन्न डिमेंशिया का नाम है सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया (Subcortical vascular dementia)

[ऊपर]

संवहनी डिमेंशिया के लक्षण (Symptoms of Vascular Dementia)

संवहनी डिमेंशिया में व्यक्ति के लक्षण इस बात पर निर्भर होते हैं कि मस्तिष्क के किस-किस भाग में क्षति हुई है, और यह क्षति कितनी गंभीर है
symptoms depend on damage location
  • संवहनी डिमेंशिया में शुरू के आम लक्षण हैं: शारीरिक कमजोरी और मनोदशा (मूड) में अस्थिरता/ उतार-चढ़ाव (mood fluctuations)
  • याददाश्त की दिक्कत भी हो सकती हैं, पर यह इतनी नहीं हैं जितनी कि अल्ज़ाइमर (Alzheimer’s Disease) में
  • अन्य लक्षण के उदाहरण : काम करने की, या सोचने की गति कम होना, ध्यान लगाने में दिक्कत, निर्णय लेने में या समस्या का हल ढूंढ़ने में दिक्कत, भाषा संबंधी दिक्कत, भ्रम, अवसाद
  • स्ट्रोक के केस में शरीर के एक तरफ कमजोरी भी हो सकती है
  • हर व्यक्ति के लक्षण मस्तिष्क में हुई हानि के स्थान पर निर्भर हैं

[ऊपर]

संवहनी डिमेंशिया में लक्षणों का बढ़ना (Progression of Vascular Dementia Symptoms)

  • डिमेंशिया का होना और लक्षणों की प्रगति इस पर निर्भर है कि मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं में समस्या किस तरह बढ़ती है
  • डिमेंशिया का शुरू होना:
    • कुछ लोगों में संवहनी डिमेंशिया के लक्षण धीरे-धीरे नज़र आते हैं
    • पर यदि व्यक्ति को स्ट्रोक हो, तो स्ट्रोक के बाद लक्षण अचानक प्रकट हो सकते हैं
  • लक्षण का बढ़ना भी अलग-अलग तरह से हो सकता है:
    • अगर डिमेंशिया स्ट्रोक के कारण हुआ है तो आगे के स्ट्रोक रोक पाने से मस्तिष्क में और अधिक क्षति नहीं होगी और लक्षण बिगड़ेंगे नहीं। पर अगर एक और स्ट्रोक हो जाए, तो लक्षण अचानक बढ़ भी सकते हैं । यानि कि, लक्षण चरणों (स्टेप्स) में बदतर हो सकते हैं
    • अगर व्यक्ति को बार-बार स्ट्रोक मिनी स्ट्रोक हो रहे हैं या मस्तिष्क की कोशिकाएं लगातार नष्ट हो रही हों तो गिरावट भी धीरे-धीरे बढ़ती रहेंगे
    • सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया में लक्षण धीरे-धीरे बढ़ सकते हैं, या भागों में भी बढ़ सकते हैं।

[ऊपर]

संवहनी डिमेंशिया: उपचार (Treatment of Vascular Dementia)

stethescope
  • संवहनी डिमेंशिया में मस्तिष्क में हुई हानि दवाई से ठीक नहीं हो सकती (जिन भागों में हानि हुई है वे फिर से सामान्य नहीं हो सकते)
  • पर हम इस डिमेंशिया के बिगड़ने को रोकने की या धीरे करने की कोशिश कर सकते हैं—यह कोशिश कर सकते हैं कि रक्त का प्रवाह ठीक बना रहे और रक्त वाहिकाएं और अधिक खराब न हों
  • डॉक्टर सलाह और दवाई देते समय अन्य पहलुओं के साथ-साथ संवहन-संबंधी पहलुओं पर जोर देते है। उदाहरण:
    • उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, दिल की समस्याएँ : इनसे बचें या इन्हें नियंत्रित रखें
    • जीवन शैली बदलें: धूम्रपान बंद करें, व्यायाम करें, पौष्टिक भोजन लें, वज़न स्वस्थ सीमाओं में रखें, मद्यपान कम करें
  • देखभाल के समय भी इन बातों पर विशेष ध्यान देना होता है
  • यह भी जरूरी है कि स्ट्रोक के बाद खास तौर से सतर्क रहें कि और स्ट्रोक न हो, और डिमेंशिया के लक्षणों के लिए भी सतर्क रहें.

(नोट:अधिकांश डिमेंशिया में लक्षण धीरे-धीरे और लगातार बढ़ते हैं)

[ऊपर]

संवहनी डिमेंशिया: मुख्य बिंदु (Salient Points of Vascular Dementia)

mantra image
  • संवहनी मनोभ्रंश एक प्रमुख प्रकार का डिमेंशिया है, जो डिमेंशिया के 20-30% केस के लिए जिम्मेदार है
    • यह अकेले भी पाया जाता है, और अन्य डिमेंशिया के साथ भी मौजूद हो सकता है (जैसे कि अल्ज़ाइमर और लुई बॉडी डिमेंशिया के साथ)
  • लक्षणों में, और प्रगति संबंधी पहलू में यह अन्य प्रमुख डिमेंशिया से कई तरह से फर्क हैं
    • हानि कहाँ और कितनी हुई है, लक्षण इस पर निर्भर हैं
    • अल्ज़ाइमर के मुकाबले इसमें याददाश्त की समस्या शुरू में कम पाई जाती है
    • लक्षणों की प्रगति धीरे-धीरे भी हो सकती है, या चरणों (स्टेप्स) में भी हो सकती है
  • इस की संभावना कम करने के लिए कारगर उपाय मौजूद हैं
    • स्वास्थ्य और जीवन शैली पर ध्यान दें तो रक्त वाहिकाओं में समस्याएं कम होंगी. इससे संवहनी डिमेंशिया की संभावना कम होगी, और यदि हो भी तो इसकी प्रगति धीमी कर सकते हैं
    • हृदय स्वास्थ्य के लिए जो कदम उपयोगी है, वे रक्त वाहिका समस्याओं से बचने के लिए भी उपयोगी हैं

[ऊपर]


(नोट्स: अधिक जानकारी के लिए लिंक, और चित्रों के लिए श्रेय) (Notes: Links, Credits)

*1अन्य प्रमुख डिमेंशिया और उन पर प्रकाशित पोस्ट: अल्ज़ाइमर रोग (Alzheimer’s Disease, AD) (सबसे आम डिमेंशिया रोग), लुई बॉडी डिमेंशिया (Lewy Body Dementia) और फ्रंटो-टेम्पोरल डिमेंशिया (Frontotemporal Dementia, FTD)

और देखें: इस हिंदी वेबसाइट पर इस विषय पर पृष्ठ: डिमेंशिया किन रोगों के कारण होता है (Diseases that cause dementia),निदान, उपचार, बचाव (Dementia Diagnosis, Treatment, Prevention). स्ट्रोक पर विस्तृत पोस्ट देखें: स्ट्रोक (आघात) और डिमेंशिया (मनोभ्रंश) (Stroke and Dementia).
कुछ विश्वसनीय अंग्रेज़ी वेबसाइट के लिंक: Vascular Dementia (Alzheimer’s Association, USA) और Vascular Dementia (Alzheimer’s Society, UK) (अंग्रेज़ी PDF डाउनलोड उपलब्ध)

संवहनी डिमेंशिया और संबंधित विकारों के लिए कुछ शब्द/ वर्तनी:

  • वास्कुलर डिमेंशिया, वैस्क्युलर डिमेंशिया, नाड़ी-संबंधी डिमेंशिया, संवहनी मनोभ्रंश, हृदवाहिनी रोग, रक्त-वाहिका रोग,स्ट्रोक, सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया, मल्टी-इनफार्क्ट, मिनी-स्ट्रोक्स, बहु-रोधगलितांश डिमेंशिया, बिंसवान्गर रोग, सबकोर्टिकल वैस्क्युलर डिमेंशिया, ट्रांसिऐंट इस्कीमिक अटैक्स, अस्थायी स्थानिक अरक्तता दौरे, पक्षाघात
  • Vascular dementia, stroke, transient ischemic attacks (TIA), multi-infarct disease, subcortical vascular dementia, small vessel disease, Binswager Disease
श्रेय: (Public domain pictures) मस्तिष्क का चित्र: Henry Vandyke Carter [Public domain], via Wikimedia Commons, मस्तिष्क के वैस्क्यूलर सिस्टम का चित्र: National Institute of Aging

[ऊपर]

ब्लॉग एंट्री शेयर करने के लिए नीचे दिए बटन का इस्तेमाल करें. धन्यवाद!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *