टैग पुरालेख: उच्च कोलेस्ट्रॉल

स्ट्रोक (आघात) और डिमेंशिया (मनोभ्रंश) (Stroke and Dementia)

स्ट्रोक (आघात, पक्षाघात, सदमा, stroke) एक गंभीर रोग है. हम कई बार देखते और सुनते हैं कि किसी को स्ट्रोक हुआ है. इस के बाद कुछ लोग फिर से अच्छे हो पाते हैं, पर अन्य लोगों में पूरी तरह शारीरिक और मानसिक क्षमताएं ठीक नहीं हो पातीं. शायद हम यह भी जानते हैं कि करीब 25%[1] केस में स्ट्रोक जानलेवा सिद्ध होता है. पर स्ट्रोक क्या है, किन बातों से इस के होने का खतरा है, इस से कैसे बचें–इन सब पर जानकारी इतनी व्याप्त नहीं है. अधिकाँश लोग यह भी नहीं जानते कि स्ट्रोक होने के कुछ ही महीनों में कुछ व्यक्तियों को स्ट्रोक-सम्बंधित डिमेंशिया (मनोभ्रंश, dementia) भी हो सकता है.

इस पोस्ट में:

संवहनी डिमेंशिया (वैस्कुलर डिमेंशिया, Vascular dementia): एक परिचय

संवहनी डिमेंशिया ((वैस्कुलर डिमेंशिया, वैस्कुलर मनोभ्रंश, vascular dementia) डिमेंशिया के चार प्रमुख प्रकारों में से एक है. यह डिमेंशिया के करीब 20 – 30% डिमेंशिया केस के लिए जिम्मेदार है. इस के बारे में जानने से आप इसे ज्यादा आसानी से पहचान पायेंगे, और इस से बचने के लिए अपनी जिंदगी में उचित बदलाव अपना पायेंगे. इस पृष्ठ पर:

  • संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is Vascular Dementia)
  • स्ट्रोक से संबंधित डिमेंशिया (Stroke-related Dementia)
  • सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया (Subcortical Vascular Dementia)
  • संवहनी डिमेंशिया के लक्षण (Symptoms of Vascular Dementia)
  • संवहनी डिमेंशिया में लक्षणों का बढ़ना (Progression of Vascular Dementia Symptoms)
  • संवहनी डिमेंशिया: उपचार (Treatment of Vascular Dementia)
  • संवहनी डिमेंशिया: मुख्य बिंदु (Salient Points of Vascular Dementia)
  • (नोट्स: अधिक जानकारी के लिए लिंक, और चित्रों के लिए श्रेय) (Notes: Links, Credits)

संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is Vascular Dementia)

संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) एक प्रमुख प्रकार का डिमेंशिया है*1

निदान, उपचार, बचाव (Dementia Diagnosis, Treatment, Prevention)

किसी व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं, ये सिर्फ डॉक्टर बता सकते हैं, और वह भी सिर्फ उचित जांच के बाद. यदि आप किसी व्यक्ति में डिमेंशिया के लक्षण देखें, तो सही रोग-निदान (diagnosis) के लिए डॉक्टर से सलाह करें. डॉक्टर निर्धारित करेंगे कि व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं, और है तो किस रोग के कारण है, और उपचार क्या है.

इस पृष्ठ पर:

  • डिमेंशिया किसी को भी हो सकता है.
  • शुरू की अवस्था में ही निदान (early diagnosis) क्यों ज़रूरी है.
  • किस से सलाह करें>.
  • निदान (Diagnosis)
  • निदान-संबंधी समस्याएँ (Problems related to diagnosis)
  • निदान के बाद (After the diagnosis)
  • उपचार, शोध (Treatment and research)
  • बचाव (risk reduction)
  • आनुवंशिकी (यदि किसी करीबी रिश्तेदार को डिमेंशिया हो)(Genetics risk if close relatives have dementia)
  • इन्हें भी देखें.

डिमेंशिया किसी को भी हो सकता है

पूरे पोस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें : निदान, उपचार, बचाव (Dementia Diagnosis, Treatment, Prevention)