टैग पुरालेख: वैस्क्युलर डिमेंशिया

स्ट्रोक (आघात) और डिमेंशिया (मनोभ्रंश) (Stroke and Dementia)

स्ट्रोक (आघात, पक्षाघात, सदमा, stroke) एक गंभीर रोग है. हम कई बार देखते और सुनते हैं कि किसी को स्ट्रोक हुआ है. इस के बाद कुछ लोग फिर से अच्छे हो पाते हैं, पर अन्य लोगों में पूरी तरह शारीरिक और मानसिक क्षमताएं ठीक नहीं हो पातीं. शायद हम यह भी जानते हैं कि करीब 25%[1] केस में स्ट्रोक जानलेवा सिद्ध होता है. पर स्ट्रोक क्या है, किन बातों से इस के होने का खतरा है, इस से कैसे बचें–इन सब पर जानकारी इतनी व्याप्त नहीं है. अधिकाँश लोग यह भी नहीं जानते कि स्ट्रोक होने के कुछ ही महीनों में कुछ व्यक्तियों को स्ट्रोक-सम्बंधित डिमेंशिया (मनोभ्रंश, dementia) भी हो सकता है.

इस पोस्ट में:

संवहनी डिमेंशिया (वैस्कुलर डिमेंशिया, Vascular dementia): एक परिचय

संवहनी डिमेंशिया ((वैस्कुलर डिमेंशिया, वैस्कुलर मनोभ्रंश, vascular dementia) डिमेंशिया के चार प्रमुख प्रकारों में से एक है. यह डिमेंशिया के करीब 20 – 30% डिमेंशिया केस के लिए जिम्मेदार है. इस के बारे में जानने से आप इसे ज्यादा आसानी से पहचान पायेंगे, और इस से बचने के लिए अपनी जिंदगी में उचित बदलाव अपना पायेंगे. इस पृष्ठ पर:

  • संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is Vascular Dementia)
  • स्ट्रोक से संबंधित डिमेंशिया (Stroke-related Dementia)
  • सबकोर्टिकल संवहनी डिमेंशिया (Subcortical Vascular Dementia)
  • संवहनी डिमेंशिया के लक्षण (Symptoms of Vascular Dementia)
  • संवहनी डिमेंशिया में लक्षणों का बढ़ना (Progression of Vascular Dementia Symptoms)
  • संवहनी डिमेंशिया: उपचार (Treatment of Vascular Dementia)
  • संवहनी डिमेंशिया: मुख्य बिंदु (Salient Points of Vascular Dementia)
  • (नोट्स: अधिक जानकारी के लिए लिंक, और चित्रों के लिए श्रेय) (Notes: Links, Credits)

संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is Vascular Dementia)

संवहनी डिमेंशिया (मनोभ्रंश) एक प्रमुख प्रकार का डिमेंशिया है*1

निदान, उपचार, बचाव (Dementia Diagnosis, Treatment, Prevention)

किसी व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं, ये सिर्फ डॉक्टर बता सकते हैं, और वह भी सिर्फ उचित जांच के बाद. यदि आप किसी व्यक्ति में डिमेंशिया के लक्षण देखें, तो सही रोग-निदान (diagnosis) के लिए डॉक्टर से सलाह करें. डॉक्टर निर्धारित करेंगे कि व्यक्ति को डिमेंशिया है या नहीं, और है तो किस रोग के कारण है, और उपचार क्या है.

इस पृष्ठ पर:

  • डिमेंशिया किसी को भी हो सकता है.
  • शुरू की अवस्था में ही निदान (early diagnosis) क्यों ज़रूरी है.
  • किस से सलाह करें>.
  • निदान (Diagnosis)
  • निदान-संबंधी समस्याएँ (Problems related to diagnosis)
  • निदान के बाद (After the diagnosis)
  • उपचार, शोध (Treatment and research)
  • बचाव (risk reduction)
  • आनुवंशिकी (यदि किसी करीबी रिश्तेदार को डिमेंशिया हो)(Genetics risk if close relatives have dementia)
  • इन्हें भी देखें.

डिमेंशिया किसी को भी हो सकता है

पूरे पोस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें : निदान, उपचार, बचाव (Dementia Diagnosis, Treatment, Prevention)

डिमेंशिया किन रोगों के कारण होता है (Diseases that cause dementia)

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) के लक्षण अनेक रोगों के कारण पैदा हो सकते हैं. कुछ लोग इन डिमेंशिया के कारणों (causes of dementia) को डिमेंशिया के प्रकार या डिमेंशिया के किस्म भी कहते हैं (types of dementia), या कभी कभी विशेष रोग के नाम की जगह, “डिमेंशिया” शब्द को रोग के नाम की तरह इस्तेमाल करते हैं. वास्तव में ऐसे अनेक रोग हैं जिनसे डिमेंशिया के लक्षण पैदा हो सकते हैं (लगभग 100). प्रमुख रोग हैं अल्ज़ाइमर (Alzheimer’s Disease), संवहनी मनोभ्रंश (नाड़ी-संबंधी डिमेंशिया, vascular dementia), फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया (fronto-temporal dementia, FTD), लुई बॉडी डिमेंशिया (Lewy Body dementia, LBD), मिश्रित डिमेंशिया (mixed dementia), इत्यादि.

अकसर लोग पूछते हैं कि डिमेंशिया और अल्ज़ाइमर में फ़र्क क्या है. अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिससे मस्तिष्क में हानि होती है, और डिमेंशिया के लक्षण होते हैं. यह डिमेंशिया का सबसे आम कारण है, पर डिमेंशिया अन्य रोगों के कारण भी हो सकता है. डिमेंशिया लक्षणों के समूह का नाम है, और अल्जाइमर एक ऐसा रोग है जिससे ये लक्षण हो सकते हैं.

  • डिमेंशिया और उसके लक्षण पैदा करने वाले रोगों के बारे में कुछ प्रमुख तथ्य.
  • डिमेंशिया के ठीक हो सकने वाले कारण (reversible causes)
  • डिमेंशिया के ठीक न हो सकने वाले कारण (irreversible causes)
  • इन्हें भी देखें

पूरे पोस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें : डिमेंशिया किन रोगों के कारण होता है (Diseases that cause dementia)

डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is dementia?)

डिमेंशिया (Dementia, मनोभ्रंश) किसी विशेष बीमारी का नाम नहीं, बल्कि के लक्षणों के समूह का नाम है, जो मस्तिष्क की हानि से सम्बंधित हैं. “Dementia” शब्द “de” (without) और “mentia” (mind ) को जोड़ कर बनाया गया है.

[डिमेंशिया नाम पर स्पष्टीकरण: हालाँकि डिमेंशिया (dementia) अँग्रेज़ी का शब्द है, इसका प्रयोग हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में भी होता है, और डॉक्टर निदान (diagnosis) के समय dementia (डिमेंशिया) शब्द का इस्तेमाल करेंगे. इस क्षेत्र के जागरूकता अभियान में, रिपोर्ट्स में, और विशेषज्ञों के इंटरव्यू में भी “डिमेंशिया” शब्द का प्रयोग होता हो. परन्तु यह जानना ज़रूरी है कि हिंदी में पत्रिकाओं, समाचारपत्रों, और वेबसाइट पर डिमेंशिया के लिए “मनोभ्रंश” शब्द का भी इस्तेमाल होता है (मनो–मन सम्बंधी, भ्रंश–नष्ट होना). यह याद रखें कि डिमेंशिया और मनोभ्रंश एक ही अवस्था के दो नाम हैं. एक अन्य नोट: dementia को देवनागरी में “डिमेंशिया” के अलावा अन्य तरह से भी लिखा जाता है, जैसे कि डिमेन्शिया, डिमेंशिया डिमेंश्या, डिमेंटिया, डेमेंटिया,वगैरह.]

डिमेंशिया के लक्षण कई रोगों के कारण पैदा हो सकते है. ये सभी रोग मस्तिष्क की हानि करते हैं. क्योंकि हम अपने सब कामों के लिए अपने मस्तिष्क पर निर्भर हैं, डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति अपने दैनिक कार्य ठीक से नहीं कर पाते. इन व्यक्तियों की याददाश्त कमजोर हो सकती है. उन्हें आम तौर के रोजमर्रा के हिसाब में दिक्कत हो सकती है, और वे अपना बैंक का काम करने में भी कठिनाई महसूस कर सकते हैं. घर पर पार्टी हो तो उसका आयोजन करना उनके लिए मुश्किल हो सकता है. कभी कभी वे यह भी भूल सकते हैं कि वे किस शहर में हैं, या कौन सा साल या महीना चल रहा है. बोलते हुए उन्हें सही शब्द नहीं सूझता. उनका व्यवहार बदला बदला सा लगने लगता है, और व्यक्तित्व में भी फ़र्क आ सकता है. यह भी हो सकता है के वे असभ्य भाषा का प्रयोग करें या अश्लील तरह से पेश आएँ, या सब लोगों से कटे-कटे से रहें. …

पूरे पोस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें : डिमेंशिया (मनोभ्रंश) क्या है (What is dementia?)

डिमेंशिया केयर नोट्स के हिंदी वेबसाइट पर आपका स्वागत है

डिमेंशिया क्या है? क्या यह संभव है कि आपका कोई प्रियजन डिमेंशिया से ग्रस्त है, और आपको मालूम ही नहीं? सतर्क रहने के लिए आप को डिमेंशिया के बारे में क्या जानना चाहिए? या हो सकता है कि आपके परिवार में किसी को डिमेंशिया है, और आप समझ नहीं पा रहे कि उसकी देखभाल करें तो कैसे करें, क्योंकि वह व्यक्ति आपकी बात समझ ही नहीं पाता है और अजीब तरह से पेश आ रहा है. आइये डिमेंशिया और उसकी देखभाल के बारे में कुछ आवश्यक बातें देखें.

डिमेंशिया: संक्षेप में कहें तो डिमेंशिया किसी विशेष बीमारी का नाम नहीं, बल्कि एक बड़े से लक्षणों के समूह का नाम है (संलक्षण, syndrome)। डिमेंशिया को कुछ लोग “भूलने की बीमारी” कहते हैं, परन्तु डिमेंशिया सिर्फ भूलने का दूसरा नाम नहीं हैं, इसके अन्य भी कई लक्षण हैं–नयी बातें याद करने में दिक्कत, तर्क न समझ पाना, लोगों से मेल-जोल करने में झिझकना, सामान्य काम न कर पाना, अपनी भावनाओं को संभालने में मुश्किल, व्यक्तित्व में बदलाव, इत्यादि। यह सभी लक्षण मस्तिष्क की हानि के कारण होते हैं, और ज़िंदगी के हर पहलू में दिक्कतें पैदा करते हैं। यह भी गौर करें कि यह ज़रूरी नहीं है कि डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की याददाश्त खराब हो–कुछ प्रकार के डिमेंशिया में शुरू में चरित्र में बदलाव, चाल और संतुलन में मुश्किल, बोलने में दिक्कत, या अन्य लक्षण प्रकट हो सकते हैं, पर याददाश्त सही रह सकती है. डिमेंशिया के लक्षण अनेक रोगों की वजह से पैदा हो सकते हैं, जैसे कि अल्ज़ाइमर रोग, लुई बॉडी रोग, वास्कुलर डिमेंशिया (संवहनी मनोभ्रंश), फ्रंटोटेम्पोरल डिमेंशिया, पार्किन्सन, इत्यादि।

लक्षणों के कुछ उदाहरण: हाल में हुई घटना को भूल जाना,

पूरे पोस्ट के लिए यहाँ क्लिक करें : डिमेंशिया केयर नोट्स के हिंदी वेबसाइट पर आपका स्वागत है